” बस एक दुआ करता हूँ उनसे….”


” बस एक दुआ करता हूँ उनसे….”

“कुछ बीते पल सताने लगें है आज ,
कुछ लोग भुलाने लगे हैं आज,
ऐसी ज़िन्दगी बन गयी है हमारी ,
डरते न थे जिससे हम हकीकत में,
वो सपनों में डराने लगे हैं आज ,
सुबह हम सब भूल जाया करते थे ,
वो सुबह भी याद आने लगे है आज,
ऐसा एहसास मन में जग रहा है ,
हर तरफ बस वही दिख रहा है ,
मैंने क्या की गलती जो ,
आज हमारा सब कुछ बिखर रहा है ,
बस एक दुआ करता हूँ उनसे,
जिन्होंने हमारी दुनिया बनायीं,
न मिटने देना हमारी दुनिया को ,
न दूर करना हमारे अपनों को ,
न तोड़ना हमारे सपनो को ….,
हमारे जीने का मकसद है ये….,
न तोडना हमारे मकसद को… ,
न तोडना हमारे मकसद को …| “

©AMRESH MISHRA

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s